Interview with Rahul Yadav (Founder of HindiBlogger.com & RahulDigital.com)

हेलो दोस्तों आज मैं एक ब्लॉगर का इंटरव्यू करने जा रहा हूँ जो 10+ वेबसाइट मालिक हैं और उनको ब्लॉग्गिंग इंडस्ट्री में 5+ साल का अनुभव है उनका नाम है राहुल यादव.

HindiBlogger.Com Blog Ke Founder Rahul Yadav ( Rahul Digital) Ka Interview.

1- हमारे पाठकों को अपने बारे में और अपने Blog के बारे में बताएं?

मेरा नाम राहुल यादव है, और मैं Rewari शहर से हूं, Rewari शहर हरियाणा में स्थित है। मैंने अपनी शिक्षा ‘ Gurgaon Institute of Technology and Management’ se पूर्ण की है, मेरी शैक्षिक योग्यता B.tech तक है। मै बहुत सारी ब्लॉगिंग साइट्स चलाता हूं।

उनमें से कुछ Rahuldigital.com, Bloggingideas.com, Rankexcel.com HindiBlogger.Com इत्यादि और भी कई ब्लॉग्स है, जो मै चलता हूं। मुझे technology ओर Blogging में आरंभ से ही रुचि हुआ करती थी, इसलिए मैंने इस क्षेत्र में अपना करियर बनाने का निश्चय किया जिसके कारण मैनें ब्लॉग की शुरूआत कर दिया। मैं अपनी ब्लॉग्स के द्वारा हिंदी में जानकारी पोस्ट करके शेयर करता हूं।

2- HindiBlogger.Com blog की Alexa rank aur Income report

आज के तारीख़ में मेरे HindiBlogger.Com blog ki Alexa Ranking भारत के अनुसार 36,387 है।

मेरी income report $1200 (Adsense+Sponsored+Affiliate) मान के चल सकते है।

मेरे Blogging साइट की Domain authority 40 हैं, और इसकी page authority 45 है। 

3- आप ट्राफिक (traffic) बढ़ाने के लिए मुख्य रूप से क्या करते हैं?

एक ब्लॉग वेबसाईट पर ट्राफिक बढ़ाने के लिए कई तरीकों का उपयोग किया जा सकता है। परंतु मैं अपने HindiBlogger.Com blog पे ट्राफिक लाने के लिए एक ही मुद्दे पर अपना अधिकतर प्रयत्न अथवा ध्यान केंद्रित करता हूं, वह factor है SEO. मेरा 65 to 75% काम एक ही तरीके से हो जाता है, वह तरीका यह है कि मैं ज़्यादा से ज़्यादा on page SEO पर काम करता हूं। 

कभी-कभी जैसे ही कोई ब्लॉग या पोस्ट अपलोड होती है तो तुरंत ही मैं अलग-अलग सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर उन्हें शेयर कर देता हूं, इससे भी काफी ट्रैफिक बढ़ जाता है, परंतु यह ऐक्शन लेने के पीछे मेरा मुख्य कारण ट्राफिक लाना नहीं होता। यह करने के माध्यम से मुझे बस एक ही चीज की पुष्टि करना होता है कि दर्शकों को अथवा लोगों को मेरा काम पसंद आ रहा है या नहीं, अथवा उन्हें इसमें रुचि आ रही है या नहीं, या मेरी वेबसाइट के बारे में उनकी राय क्या होती है।

4- हिंदी ब्लॉगिंग के भविष्य को लेकर राय है?

मुझे लगता है कि हिंदी ब्लॉगिंग का भविष्य आगे भी इसी तरह सुनहरा ही रहेगा। क्योंकि Hindi Blogs की रीडर्स की संख्या कम नहीं होती। कई लोगो को हिंदी ब्लॉग्स पढ़ने में बहुत रुचि होती है। हिंदी आप बहुत ही सरल और दिल को भा जाने वाली भाषा है। कई लोग हिंदी में ज्यादा बेहतर तरीके से अपनी जानकारी, ज्ञान भावना में विचार व्यक्त कर पाते हैं और बिल्कुल ऐसा ही पढ़ने वालों के मामले में भी होता है। 

कुछ लोग दूसरों के विचार ज्ञान भावना सन जानकारी सोच नजरिया हिंदी में बेहतर समझ पाते हैं। तो Hindi Blogging का भविष्य अभी की ही तरह उज्जवल ही होगा। Hindi Blogs काफी लंबे समय तक सफल रहेंगे। वर्तमान में अंग्रेजी भाषा में चल रही ब्लॉक के साथ-साथ हिंदी भाषा के ब्लॉक भी काफी लोकप्रिय हो रहे हैं हिंदी ब्लॉगिंग के प्रति लोगों की रूचि दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है हिंदी ब्लॉग को बढ़ावा देना भी बहुत जरूरी है। आज के समय में गूगल पर लाखों की संख्या में हिंदी ब्लॉग उपलब्ध है। 

5- यदि कोई अपना नया ब्लॉग शुरू करना चाहता है तो आप उसे क्या संदेश देना चाहेंगे?

नए Bloggers के लिए बस इतना ही संदेश है कि सफलता हर चीज में पाई जा सकती है बस उस कार्य में अपना पूर्ण तरह समर्पण देना आवश्यक है, और मेहनत करना भी आवश्यक है। सफलता 1 दिन में नहीं पाई जा सकती उसके लिए समय और संयम होना बहुत ही जरूरी है। Blogging के लिए कुछ सरल साधारण मुद्दे है, जिन पर गौर करना अति आवश्यक है, जैसे कि जिस भी विषय पर Blog लिखा जा रहा है उस विषय की अच्छी जानकारी और सही जानकारी होना अनिवार्य है, इसके अलावा इस काम में रुचि होनी चाहिए, क्योंकि जबरदस्ती कोई भी काम नहीं किया जा सकता। 

ब्लॉग्स लिखने के लिए कभी-कभी काफी समय लगता है, तो इसके लिए संयम रखकर समय निकालकर बहुत ही धीरज से लिखना पड़ता है। जब Bloggers को कुछ नया सीखने की इच्छा या कुछ अलग करने का जज्बा होता है तब ही, अच्छे ब्लॉग्स लिख सकता है, और इससे उसे अलग अलग विषयों पर लिखने में भी सरलता होगी। और सबसे महत्वपूर्ण है यह भी है कि इसके लिए नियमितता होना बहुत आवश्यक है, रातों-रात कोई भी सफल नहीं होता उसके लिए धैर्य की गरज पड़ती है, तू पूर्ण धैर्य से अपने काम को मन लगाकर किया जाए तो सफलता अवश्य ही प्राप्त होगी। ब्लॉग्स शुरू करने के लिए SEO Ka मूल ज्ञान होना जरूरी है। इन्हीं कुछ छोटी-छोटी बातों का ध्यान में रखकर अगर ब्लॉग्स शुरू किए जाए तो अवश्य ही ब्लॉगिंग में बहुत ही सफल भविष्य बना पाएंगे।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि अगर इस विषय में या इस क्षेत्र में कोई रुचि नहीं है तो इस क्षेत्र में प्रवेश करने का कोई मतलब नहीं, अगर केवल दूसरों को देखकर सफलता पाने के लिए Blog शुरू कर रहे हैं तो ना ही इससे आपको आनंद मिलेगा और ना ही इसमें आप आगे कुछ कर पाएंगे। अगर ब्लॉक्स में कोई रुचि नहीं रही और फिर भी क्षेत्र में प्रवेश कर रहे है तो इससे शायद केवल समय की बर्बादी ही होगी।

ब्लॉगिंग किस वातावरण में की जाती है यह भी बहुत मायने रखता है, जैसे मेरे लिए जरूरी है कि कोई भी काम मैं मन लगाकर करूं वरना उस काम का फल मिलना सरल नहीं होता, बहुत ही कठिन हो जाता है। इसीलिए मैंने अपना ऑफिस सेट अप किया है। मुझे ऐसे वातावरण में लिखना अच्छा लगता है जहां मुझे कोई डिस्टर्ब ना करें और मेरे मन में दूसरे कोई ख्याल ना आए। ने एक शांति भरे माहौल मैं लिखना पसंद करता हूं वैसे ही बाकी नए ब्लॉगर्स को भी यह ध्यान रखना चाहिए कि वह किस वातावरण में लिखना शुरू करते हैं, क्योंकि यही बात निश्चय करती है कि उनके काम में उनका कितना मन लगेगा।

Rahul Digital Logo

6- आपके पसंदीदा ब्लॉग्स कौनसे है, और आप उन्हें क्यों पसंद करते है?

मुझे अक्सर ऐसे ब्लॉग्स पसंद आते है, जिनमें अगर मैं कुछ सर्च करूं तो उस विषय की गहराई में जानकारी मुझे प्राप्त हो, और वह सारी जानकारी सही हो। ऐसा नहीं है कि मुझे कोई एक Blog पसंद है मुझे जो जो ब्लॉग्स पसंद आते हैं मैं उन्हें सब्सक्राइब कर देता हूं और फिर जब जब उन ब्लॉग्स में नया अपलोड होता है तो मुझे उसकी पहले से ही सूचना मिल जाती है।

मुझे आप लोग पसंद है जो सरल साधारण भाषा में पोस्ट करते हो इसे समझने में आसानी होती है। और बाकी के रीडर्स के लिए भी पढ़ना सरल हो जाता है। ऐसे ब्लॉग्स बहुत आकर्षक लगते हैं जो सीधे एक Blogger के लिखे हुए सोच को आपकी सोच से जोड़ते हैं।

फिर भी कुछ blogs हैं जिन्हें मैं अक्सर पढ़ता रहता हूं और मुझे काफी पसंद आते हैं,

जैसे:- 

  • Shoutmeloud
  • Neil Patel
  • Search Engine land
  • Moz
  • Ahrefs

7- आप ब्लॉग पोस्ट को कस्टमाइज करने के लिए किन- किन Plugins का use करते है?

कुछ चुनिंदा plugins है जिन्हे मै इस्तेमाल करता हूं जैसे

Yoast SEO

यह खास रूप में blog beginners को सहायक हो सकती है, क्योंकि इसके मदद से वो ऐसा Content बना पाएंगे जिससे वे ज़्यादा Traffic अपने Blog की तरफ attract कर पाए। क्योंकि अगर आप नए है, और आपके अस्तित्व के बारे में किसी को पता नहीं हो तो ऐसे में audience को इकट्ठा करना मुश्किल हो सकता है। इस Plugin की मदद से मेरा कंटेंट बनाना और भी सरल हो जाता है जो मेरे लिए बहुत ही फायदेमंद साबित होता है।

YARPP

इसे Yet Another Related Post Plugin भी कहते है। यह सबसे उत्तम ब्लॉगर plug-ins में से एक है। एक बार आपके ब्लॉग पर Audience आ गई तो उनका उस पर टिके रहना और आपके ब्लॉग पढ़ते रहना बहुत जरूरी होता है। परंतु इस Plugin के द्वारा अपने Blog के नीचे एक Related Content डालकर अपने रीडर्स को अपने Blog पर टिकाए रखा जा सकता है। YARPP जैसे Plugin को इंस्टॉल करके आप अपने ब्लॉग पर लोगों का Interaction बढ़ा सकते हैं और जब कोई टॉपिक सर्च किया जाएगा तो आपका ब्लॉग सर्च रिजल्ट में ऊपर आ सकता है।

Title Experiments

मैं वैसे तो अच्छा Content लिख देता हूं लेकिन मुझे उस पर किस तरह का Title सूट होगा या किस तरह का टाइटल डालना चाहिए यह सिलेक्ट करने में दिक्कत होती है तो मैं इस जिनका इस्तेमाल करता हू क्योंकि केवल मै ही नहीं बल्कि कई सारे Bloggers Ko Blog का Title सेलेक्ट करने में परेशानी होती है। सौभाग्य से इस परेशानी को दूर करने के लिए ऐसेट Plugins को बनाया गया है। इससे मुझे अलग-अलग प्रकार के Title Ideas मिलते है। 

Aksimet

इससे मुझे एक एक कमेंट को अप्रूव करने की जरूरत नहीं होती, और अपने Blog को स्पेन कमेंट से बचाने के लिए मैं इस प्लगइन का इस्तेमाल करता हूं। यह प्लगइन एक ब्लॉग से 99 परसेंट तक का spam आईडेंटिफाई करके उसे ब्लॉक करता है।

Editorial Calendar

अच्छे ब्लॉग्स लगातार अच्छा कंटेंट Publish करते रहते हैं। क्योंकि ऑडियंस को हमेशा नए कंटेट का इंतजार होता है, यह प्लगइन मुझे मेरे कंटेंट को मैनेज करने में और मेरे Blog Posting Schedule को मैनेज करने में सहायता करता है। 

Top 10

एक इंसान हमेशा यह जानने की कोशिश करता है कि दूसरे क्या कर रहे हैं। वैसे ही एक Reader यह जानने की कोशिश करता है कि दूसरे रीडर्स किस तरह के Blog पढ़ रहे हैं। इस प्लगिन से जो नए रीडर Members होते हैं उन्हें पता चल जाता है कि इस ब्लॉग पर सबसे ज्यादा किस Post को सहयोग मिला है या किस पोस्ट को सबसे ज्यादा बार पढ़ा गया है। तो फिर उन्हें वहीं पढ़ने में ज्यादा रुचि होती है और वह पढ़ने लग जाते हैं। इससे मुझे भी मेरे सबसे ज्यादा देखे गए कंटेंट के बारे में पता चलता है।

Contact Form 7 

किसी भी काम के लिए अपनी ऑडियंस संपर्क में रहना बहुत जरूरी है, परंतु यह भी महत्वपूर्ण है कि आप अपनी Personal Information Personal ही रखें। कभी-कभी कोई पर्सनल इंफॉर्मेशन लीक हो जाए तो वह आपके लिए बुरा साबित हो सकता है। इस प्लगइन से आप अपने Contact Form को Customize कर सकते हैं, यह आपको Spam Messages से दूर रखने में भी बहुत काम आता है। 

Simple share button adder

जाहिर सी बात है अपने Blog को और आकर्षक बनाने के लिए ऐसा कंटेंट बनाया जाए जो आपकी रीडर्स शेयर कर सके। और उनके लिए Sharing को आसान बनाने के लिए यह Plugin सिंपल शेयर बटन आर्डर बनाया गया है इस प्लगइन द्वारा मेरे Blog अथवा Post में अपने आप एक शेयर बटन ऐड हो जाता है। मेरे दर्शक सबसे ज्यादा क्या यूज करते हैं इस आधार पर मैं अपने Blog पर Buttons Ko Customize करता हूं। एक बार जब मैं decide कर लेता हूं कि कौनसी-कौनसी साइट्स की बटन अपने ब्लॉग पर रखना है उसके बाद उन Buttons का लुक चेंज करता हूं ताकि वह मेरे Blog पर सूट हो।

8- कैसे हमारे पाठक आपके साथ संपर्क में रह सकते हैं और हां ब्लॉगिंग कम्युनिटी के लिए कोई संदेश है?

वैसे तो इतने टाईट शड्यूल से इंटरेक्ट करने का समय ही नहीं मिल पाता, 1 दिन में टाइम मैनेज करना बहुत ही कठिन हो जाता है। परंतु मैं कोशिश यही करता हूं कि मैं अपने दर्शकों को नियमित रूप से समय दे सकूं और उनके साथ संपर्क में रह सकूं। मेरा प्रयत्न यही रहता है कि रोज के कम से कम 40 कमेंट को पढ़कर उनके डिटेल में जवाब देने की कोशिश करता हूं। और कुछ कुछ यूजर्स को मुझसे डायरेक्ट कांटेक्ट करना होता है तो मैंने मेरी ईमेल आईडी भी प्रोवाइड की है मैं हफ्ते में एक बार लोगों के mails के reply देने के लिए समय अवश्य निकालता हूं। इस तरह से मैं ज्यादा से ज्यादा अपने ही audience के कांटेक्ट में रहता हूं। 

ब्लॉगिंग कम्युनिटी के लिए यही संदेश है की शुरूआत में अगर ऑडियंस कम हो जाए या कोई रिस्पांस ना आए तो निराश ना हो। सफलता धीरे-धीरे हासिल होती है, बस धीरज से अपना काम करते रहना चाहिए एक न एक दिन उसका फल अवश्य मिलता है। जो भी work आप प्रोवाइड कर रहे हैं, इतना ध्यान में रखना चाहिए की वह वर्क क्वालिटी वर्क हो। 

और जिन लोगों को Blogging कठिन लगती है उनके लिए संदेश है कि कठिन कोई काम नहीं होता मेहनत और कंसिस्टेंसी से कठिन से कठिन काम भी आसान बनाया जा सकता है। और कोशिश कभी नहीं बंद करनी चाहिए हमेशा कोशिश करते रहना चाहिए।

You can contact Rahul Digital @

Linkedin: https://www.linkedin.com/in/rahuldigital/

Email: [email protected]

निष्कर्ष

आज का हमारा यह आर्टिकल रोहित यादव के इंटरव्यू से संबंधित था। हमारे द्वारा इस आर्टिकल में संपूर्ण जानकारी आपको अच्छी लगी होगी। यदि किसी व्यक्ति को इस आर्टिकल से संबंधित कोई सवाल है। तो वह हमें कमेंट के माध्यम से पूछ सकता है। 

Leave a Comment