[Best] Maut Shayari In Hindi 2021 | Death Shayari (Latest)

जब वो शख्स जिससे मोहब्बत होती है वो नहीं मिलता है तो उससे अच्छा होता है मौत ही मिल जाये। दोस्तों अगर आपके दिल में अपनी मोहब्बत से अलग होने का तूफान उठा है और गूगल पर Maut Shayari ढूंढ रहे हैं तो आप सही वेबसाइट पर आये हैं.

इस वेबसाइट पर आपको Maut Shayari 2 Line, Maut Ki Dua Shayari in Hindi, Maut Ka intezar Shayari, Maut Shayari For Girlfriend, Maut Shayari For Boyfriend, Shayari On Maut and Zindagi, Mohabbat aur Maut Shayari, Maut Shayari In English मिलेंगी जिन्हें आप फेसबुक, व्हाट्सप्प, इंस्टाग्राम आदि पर शेयर भी कर सकते हैं और इस पोस्ट के एन्ड में आपको Related Post भी मिलेंगी उनको भी आप पढ़ सकते हैं.

Maut Shayari

Maut Shayari In Hindi
कमाल है न जाने ये कैसा उनका प्यार का वादा है
चंद लम्हे की जिंदगी और नखरे मौत से भी ज्यादा हैं
मेरी ज़िंदगी तो गुजरी तेरे हिज्र के सहारे
मेरी मौत को भी कोई बहाना चाहिए
वो कर नहीं रहे थे मेरी बात का यकीन
फिर यूँ हुआ के मर के दिखाना पड़ा मुझे
तू बदनाम ना हो इसलिए जी रहा हूँ मैं
वरना मरने का इरादा तो रोज होता है
मौत ख़ामोशी है चुप रहने से चुप लग जाएगी
ज़िंदगी आवाज़ है बातें करो बातें करो

Maut Shayari 2 Line

Maut Shayari 2 Line
छोड़ दिया मुझको आज मेरी मौत ने ये कह कर
हो जाओ जब ज़िंदा तो खबर कर देना
अगर रुक जाये मेरी धड़कन तो मौत
न समझना कई बार हुआ है ऐसा तुझे याद करते करते
मौत एक सच्चाई है उसमे कोई ऐब नहीं है
क्या लेके जाओगे यारो कफ़न में कोई जेब नहीं होती
मौत से पहले जहाँ में चंद साँसों का अज़ाब
ज़िन्दगी जो क़र्ज़ तेरा था अदा कर आये हैं
मेरे चहरे से कफ़न हटा कर
जरा दीदार तो कर लो
ऐ बेवफा बंद हो गई है वो आंखे
जिन्हे तुम रुलाया करते थे

Maut Ki Dua Shayari in Hindi

Maut Ki Dua Shayari in Hindi
मौत मांगते है तो ज़िन्दगी खफा हो जाती है
जहर लेते है तो वो भी दवा हो जाती है
तु बता ऐ ज़िन्दगी तेरा क्या करू
जिसको भी चाहा वो बेवफा हो जाती है
उसकी यादों ने मुझे पागल बना रखा है,
कहीं मर ना जाऊं कफ़न सिला रखा है,
मेरा दिल निकाल लेना दफ़नाने से पहले,
वो ना दब जाए जिसे दिल मे बसा रखा है।
भरी महफ़िल में कल सरेआम लगाया था
जी हैं शराब से नफरत करने वाले ने जाम लगाया था
और एक बार नहीं बार – बार लगाया था,
लगता है किसी पत्थर दिल ने उसे बहुत रुलाया था.
क्या कहूँ तुझे… ख्वाब कहूँ तो टूट जायेगा,
दिल कहूँ, तो बिखर जायेगा।
आ तेरा नाम ज़िन्दगी रख दूँ,
मौत से पहले तो तेरा साथ छूट न पायेगा।.
ना चाँद अपना था और ना तू अपना था,
काश दिल भी मान लेता की सब सपना था
कोई नही आएगा मेरी ज़िदंगी मे तुम्हारे सिवा,
एक मौत ही है जिसका मैं वादा नही करता।

Maut Ka intezar Shayari

Maut Ka intezar Shayari
पहले ज़िन्दगी छीन ली मुझ से
अब मेरी मौत का फायदा उठाती हैं
मेरी क़बर पर फूल चढ़ाने के बहाने
वो किसी और से मिलाने आती है
चंद साँसे बची हैं आखिरी बार दीदार दे दो,
झूठा ही सही एक बार मगर तुम प्यार दे दो,
जिंदगी तो वीरान थी मौत भी गुमनाम ना हो,
मुझे गले लगा लो फिर मौत मुझे हजार दे दो।
मंज़िल तोह तेरी यही थी बस ज़िन्दगी
गुजर गयी तेरी यहाँ आते आते क्या
मिला तुझे इन् दुनिया वालो से अपनों
ने ही जला दिए तुझे जाते जाते।
कितना और दर्द देगा बस इतना बता दे
ऐसा कर ऐ खुदा मेरी हस्ती मिटा दे
यूं घुट घुट के जीने से तो मौत बेहतर है,
मैं कभी न जागूं मुझे ऐसी नींद सुला दे
आँखों में पानी रखो होंठो पे चिंगारी रखो
ज़िंदा रहना है तोह तरकीबें बहुत सारी रखो
एक ही नदी के हैं यह दो किनारे दोस्तों ,
दोस्ताना ज़िन्दगी मौत से यारी रखो

Maut Shayari For Girlfriend

Maut Shayari For Girlfriend
जन्नत किसी कहते है पता नहीं
एक तुम्हारा मिल जाना ही काफी था
मौत किसी कहते है पता नहीं
एक तुमसे बिचड़ जाना ही काफी था
मौत को जीना सीखा देंगे
इतना शिद्धत से ज़िन्दगी काटी है
आंसू बहा करते है रोज़ फिर भी
सब में खुशिया बाटी है।
वादे तो हजारों किये थे उसने मुझसे,
काश एक वादा ही उसने निभाया होता,
मौत का किसको पता कि कब आएगी,
पर काश उसने ज़िन्दा जलाया न होता
कितना दर्द है दिल में दिखाया नहीं जाता
किसी की बर्बादी का किस्सा सुनाया नहीं जाता
एक बार जी भर के देख लो इस चहेरे को
क्योंकि बार-बार कफ़न मुहं से उठाया नहीं जाता
जिसकी याद में सारे जहाँ को भूल गए,
सुना है आजकल वो हमारा नाम तक भूल गए,
कसम खाई थी जिसने साथ निभाने की यारो,
आज वो हमारी लाश पर आना भूल गए

Maut Shayari For Boyfriend

Maut Shayari For Boyfriend
किसी को दिल से चाहना बुरा तो नहीं किसी
को दिल में बसना बुरा तो नहीं गुनाह गोगा
ज़माने की नज़र में तो क्या हुआ ज़माने
वाले भी इंसान है कोई भगवान तो नहीं
जो बदल गया वो प्यार कैसा जो चोर गया
वो साथ केसा लोग कहते है तुझे फिर से
प्यार हो जायेगा लेकिन जो फिर से
हो जाये वो प्यार कैसा।
सुना है कोई और भी चाहने लगा है
तुम्हें अगर हमसे ज्यादा चाहे तो
उसी के हो जाना हमेशा के लिए।
सुहाना मौसम और हवा में नमी होगी,
आंसुओं की बहती नदी न थमी होगी,
मिलना तो हम तब भी चाहेंगे आपसे,
जब आपके पास वक़्त और…
हमारे पास साँसों की होगी।.
अगर तुझे चाहने से मौत आये
तू मौत कुबूल है मुझे
तुझे चाहना फितरत है मेरी
तेरे बिना बीती हर शाम
लगती फ़िज़ूल है मुझे।

Shayari On Maut and Zindagi

Shayari On Maut and Zindagi
आसमान को पड़े मुकाम मिल जाए
खुदा को ये मेरा पैगाम मिल जाए
थक गयी हैं धड़कने अब तो चलते चलते
ठहरे सासें तो शायद आराम मिल जाए
एक दिन जब हुआ इश्क़ का एहसास उन्हें,
वो हमारे पास आकर सारा दिन रोते रहे,
और हम भी इतना खुदगर्ज निकले यारो,
आँखें बंद कर के कफन में सोते रहे,
अगर दुनिया में जिने कि चाहत ना होती,
तो खुदा ने मोहब्बत बनाई ना होती,
लोग मरने कि आरजू ना करते,
अगर मोहब्बत में बेवफ़ाई ना होती,
चैन तो छिन चुका है अब बस जान बाकी है,
अभी मोहब्बत में मेरा इम्तहान बाकी है,
मिल जाना वक़्त पर ऐ मैत के फरिश्ते,
किसी का गिला किसी का फरमान बाकी है,
मिटटी मेरी कब्र से उठा रहा हैं कोई,
मरने के बाद भी याद आ रहा है कोई,
ऐ खुदा कुछ पल कि मोहलत और दे दे,
उदास मेरी कब्र से जा रह हैं कोई,

Mohabbat Aur Maut Shayari

Mohabbat Aur Maut Shayari
मोहब्बत और मौत दोनों बिन बुलाये मेहमान होते हैं
कब आ जाए कोई नहीं जानता लेकिन दोनों का
एक ही काम हैं एक को दिल चाहिए दूसरी को धड़कन
अब मौत से कह दो कि नाराजगी खत्म करले,
वो बदल गया है जिसके लिए हम ज़िन्दा थे
मोहब्बत में उसके साथ नाम जोड़ कर उसके
घर बारात ले जाने का हमने अरमान देख लिया
उसके हांथो में मेहँदी रची देख किसी और के
नाम की अपनी ही मौत का पैगाम देख लिया
नाराजगी होती तो मान भी लेते,
मगर उसने ठिकाना दूसरा ढूढ़ा रखा था
पहला प्यार सोचा था तो दूसरा हुआ क्यों
अगर दूसरा प्यार सच्चा है तो पहले याद आ रहा क्यों।
प्यार में सब कुछ भुलाए बैठे हैं,
चिराग यादों के जलाये बैठे है,
हम तो मरेंगे उनकी ही बाहों में,
ये मौत से शर्त लगाये बैठे हैं
दिल तो हर पल टुटा हैं पर हम नहीं,
मौत मुझे ले गयी मेरे प्यार को नहीं,

Maut Shayari In English

Maut Shayari In English
Aata Hai Kaun Kaun Tere Gam Ko Batne
Galib Tu Apni Maut Ki Afwah Uda Kar Dekh
Zindagi Zakhmo Se Bhari Hai
Waqt Ko Mlham Banana Sikh Lo
Harna To Muat Ke Samne Hai
Jindgi Se To Jitna Sikh Lo
Maut Hi Jindgi Se Tab Behtar Lagti Hai
Dil Me Kisi Ki Yado Ki Jab
Chingari Sulagti Hai
Kuch Khas Fark Nahi Parta
Jeene Ka Andaj Badal Lene Se
Bas Fasle Maut Tak Jindgi Ke
Kuch Majedar Si Ho Jate Hai
Us Pal Hi Maut Se Mulakat Hogi,
Jis Pal Zindagi Ke Aakhri Raat Hogi,
Tere Apne Hi Jala Kar Jayege Tumhe,
Teri Ahmiyat Bas Khas Hogi

Related Post:

अंतिम शब्द

दोस्तों मैं उम्मीद करता हूँ कि इस वेबसाइट में शेयर की गईं Maut Shayari आपको पसन्द आयी होंगी। अपनी Favourite Maut Shayari को कमेन्ट करके हमें जरूर बताएं और इन मौत शायरी को सोशल मीडिया साइट्स फेसबुक, व्हाट्सप्प, इंस्टाग्राम आदि पर शेयर करना ना भूलें.

Leave a Comment