Best Independence Day Speech In Hindi 2021 (Powerful)

आज़ादी सबसे खूबसूरत अहसास है खुलकर जीने का. हमें आज़ादी मुफ्त में नहीं मिल गई इसके लिए बहुत से शूरवीर शहीद हुए संघर्ष किये गए तब जाकर हमारा हिंदुस्तान आज़ाद हुआ. आज़ादी का जश्न मनाने और और दोस्तों को बधाई देने के लिए अगर आप गूगल पर Independence Day Speech In Hindi ढूंढ रहे हैं तो आप सही वेबसाइट पर आये हैं.

इस वेबसाइट पर आपको 15 August की बधाइयाँ शेयर करने के लिए Independence Day Speech In Hindi For School Students, Best Speech on Independence Day In Hindi, 15 अगस्त पर भाषण हिन्दी में, 15 August Speech In Hindi 2021, 15 August Speech in Hindi for Child, 15 August Speech in Hindi Shayari मिलेंगी जिन्हें आप Whatsapp, फेसबुक आदि सोशल मीडिया साइट्स पर शेयर कर सकते हैं.

Independence Day Speech In Hindi

नमस्कार, आप सभी आदरणीय अध्यापकों अभिभावकों और मेरे प्यारे मित्रों | आप सभी को आजादी की ढेर सारी बधाईयाँ.

आज के दिन को भारत के इतिहास का सबसे सर्वश्रेष्ठ दिन माना गया है | 15 अगस्त 1947 को हमारा देश आजाद हुआ था जिसे आजाद करने के लिए न जाने कितने स्वतंत्रता सेनानियों ने अपनी जाने गंवाई थी.

आज का दिन उन सभी शहिदों को याद करने का है उनके इस कर्ज को तो हम कभी नहीं चूका पाएंगे लेकिन इतना जरुर है की उनके द्वारा दिलाई गयी इस आजादी को हम संभाल कर रखेंगे.

ब्रिटीशियों ने जो किया है उससे सिख लेनी है हमें और अपने भारत को इतना मजबूत करना है की कोई और हम पर कब्जा करने की तो दूर की बात है हमारे भारत की तरफ आँख उठा कर भी न देख सके.

हमारे भारत के लिए जीन हस्तियों ने अपनी जान की कुर्बानी दी है मै उनको नमन करता हूँ और कसम खाता हूँ की अपने भारत के लिए अगर जान भी देनी पड़ेगी तो मैं पीछे नहीं हटूंगा.

भारत माता की जय, भारत माता की जय, बस यही नारा है इन्कलाब जिंदाबाद के लिए मुझे अब मर मिट जाना है “भारत माता की जय”


Independence Day Speech In Hindi For School Students

भारत की आजादी को आज 75 साल हो गए है और आज के इस शुभ अवसर पर मेरा आप सभी को तहे दिल से धन्यवाद की आपने मुझे कुछ पंक्तियाँ आप सभी के सामने व्यक्त करने का सुनहरा अवसर दिया है।

जैसा की हम सभी 15 अगस्त आज का दिन हमारे अस्तित्व के लिए बहुत ही जरूरी है। आजादी की कीमत तुम क्या जानो देश के नागरिकों अगर कीमत जाननी है तो एक बार भारत के इतिहास की किताब पढ़ लेना और फिर भी कुछ न हो तो जरा लाल किले घूम आना।

दोस्तों मत भूलों की भारत की आजादी के पीछे कितने संघर्ष और त्याग दिये गए थे। मत भूलों कितनी औरतें विधवा और कितने घर उजाड़े गए थे। जरा सोचों उस बच्चे के बारे में जिसके दूध के दाँत भी नहीं टूटे थे की उसके पिता चल बसे सिर्फ हम सब की आजादी के लिए। आज सभी के घर में नौजवान तो मिल जाएंगे लेकिन देश के प्रति न्यौछावर होने वाली वो जान नहीं मिलेगी जो कभी हमारे देश के लिए अपनी जान दे दिया करते थे। आज भी उन सभी शहीदों को मेरा शत शत नमन है और दिल में इज्जत, आँखों में आँसू है लेकिन मैं कसम खाता हूँ कि एक दिन जरूर इस देश के काम आऊँगा।

दोस्तों देश भक्ति देश की सरहदों के अलावा घरों में रह कर भी निभाई जा सकती है। दोस्तों सच में ये मत भूलना इस देश में जो आज हरी भरी संस्कृति और देश भूमि दिखती है वो सिर्फ हमारे क्रांतिकारी लोगों के चलते ही मिली है। हम सभी मतलबी है कहीं न कहीं अपने कर्तव्यों को भूल जाते है लेकिन याद रखिए यदि भारत का प्रत्येक नगरीक ऐसा निकलेगा तो हमारे देश का क्या होगा।

लेकिन सच बताऊँ तो मुझे सच में बहुत ही गर्व होता है कि में एक भारतीय नागरिक हूँ और भारत में मुझे जन्म मिला है। मैं उस माँ का दिल से धन्यवाद करता हूँ जिसने मुझे जन्म दिया और जिस माँ ने मुझे अन्न दिया। देश के लिए कुछ कर जाने की खवाहिश दिल में रखता हूँ सच कहूँ तो मेरा देश ही मेरी शक्ति है और मेरी शान भी मेरा देश है।

Best Speech on Independence Day In Hindi

नमस्कार आप सभी आदरणीय अध्यापकों अभिभावकों और मेरे प्यारे मित्रों| आप सभी को आजादी की ढेर सारी बधाईयाँ.

आज आजादी के इस शुभ अवसर पर मै आपके सामने एक छोटा सा 15 अगस्त पर भाषण देने के लिए आया हूँ.

15 अगस्त 1947 को हमारा देश आजाद हुआ था जिसे आजाद करने के लिए न जाने कितने स्वतंत्रता सेनानियों ने अपनी जान गंवाई थी.

आज का दिन उन सभी शहिदों को याद करने का है| उनके इस कर्ज को तो हम कभी नहीं चूका पाएंगे लेकिन इतना जरुर है की उनके द्वारा दिलाई गयी इस आजादी को हम संभाल कर रखेंगे.

आजादी की उस लड़ाई को भूले नहीं भुलाया जा सकता है| उनके जुल्मों को उनके द्वारा मिली प्रताडनाओं को कभी नहीं भूल सकते है| ब्रिटीशियों ने जो किया है उससे सिख लेनी है.

हमें और अपने भारत को इतना मजबूत करना है की कोई और हम पर कब्जा करने की तो दूर की बात है हमारे भारत की तरफ आँख उठा कर भी न देख सके.

हमारे भारत के लिए जीन हस्तियों ने अपनी जान की कुर्बानी दी है मै उनको नमन करता हूँ और कसम खाता हूँ की अपने भारत के लिए अगर जान भी देनी पड़ेगी तो मैं पीछे नहीं हटूंगा.

आज भारत किसी भी देश से कम नहीं है भारत के पास सब है जो अन्य देशों के पास है भारत को किसी के आगे हाथ फ़ैलाने की जरुरत नहीं| आज भारत पूरी तरह आजाद है लेकिन आज भी कहीं न कहीं भ्रष्टाचार है जो की भारत को बर्बाद कर देगा.

भारत की आजादी के लिए हमारे पूर्वजों ने बड़े त्याग किये है उनके इस त्याग को युहीं बर्बाद मत होने देना उनके द्वारा दिए गए इस तोहफे को संभाल कर रखना है हमें ठीक उसी तरह जिस तरह उन्होंने भारत की रक्षा की है.

भारत माता के आंचल पर दाग भी नहीं लगने देंगे| दुश्मनों ने कश्मीर की सोची तो बचा कुछ भी हाथ से गवां बैठेंगे| कसम है भारत माता की दुश्मनों के घर में घुस कर छठी का दूध याद दिला देंगे.

भारत माता की जय है अपनी माता की गोद में सोने में जो आनंद आता है न, वो तो केवल एक सैनिक ही बता सकते है हमें भी कुछ कर गुजरना है अपने भारत के लिए अपने शहीद भाइयों को दिल से “धन्यवाद” है.

Related Post:

15 अगस्त पर भाषण हिन्दी में

मेरे सभी अध्यापकगण, मेरे सभी सह पाठीयों 15 अगस्त का इतिहास आज भी देश के तिरंगे में सुसज्जित है| 15 अगस्त के बारे में बहुत लोग केवल इतना ही जानते है की ये हमारी आजादी का दिन है लेकिन आजादी के पीछे छिपे उस संघर्ष की कहानी हर किसी को नहीं पता है.

आजादी की कहानी के लिए इतिहास के पिछले पन्नों को उठाना होगा| जिनमे बहुत से पन्नों में हमारे देश के उन क्रांतिकारियों की कहानी है| जिन्होंने अपना सब कुछ गवा दिया था हमारी आजादी के लिए.

आज के दिन जो हम खुली हवा में आजादी के साथ सांस ले रहे है तो केवल उन महान क्रांतिकारियों की वजह से|

आजादी का दिन प्रत्येक भारतीय के लिए सबसे महत्वपूर्ण दिवस होना चाहिए.

15 अगस्त का दिन हमेशा से ही हमारे लिए खास रहा है| 15 अगस्त के दिन उन सभी बीते दिनों को याद किया जाता है जिनकी वजह से आज के समय में हमारा अस्तित्व है.

ब्रिटिश शासन से भारत की स्वतंत्रता ही नहीं बल्कि भारत की अपनी शक्ति का भी प्रमाण है 15 अगस्त का दिन|

15 अगस्त का दिन सभी समुदाय जाती धर्म के लोगों में एकता का दिवस है.

15 अगस्त के दिन लोगों में खुशी की बहार होती है| 15 अगस्त 1947 के बाद से भारत में बहुत से बदलाव देखने को मिले है.

15 अगस्त के बाद भारत पूरी तरह ब्रिटीशियों के चंगुल से छुटकारा पा चुका है.

भारत की आजादी के लिए बहुत सारे क्रांतिकारियों ने अपनी जान की आहुति दी है जिन्हें भुलाया नहीं जा सकता है उनके इस उपकार को हमे अपने दिलों में बसाये रखना है.

स्वतंत्रता सेनानियों के द्वारा दिलाई गयी स्वतंत्रता की कदर रखनी है कोई भी बुरी नजर वाला हमारे देश पर नजर डालने से पहले ही दस बार सोचे कुछ ऐसा करना हैं हमे|

भारत की आजादी को हमेशा बरकरार रखना है| भारत की आजादी के बाद भी हमरे देश में कई जगह ऐसी है जहा जात पात के चलते लोग अपने आप को आजाद महसूस नहीं करते है| हमे सभी जाती धर्म को बराबर समझ कर अपना देश महान बनाना चाहिए.

14 अगस्त 1947 की रात को भारत को आजादी मिली थी। जिसकी वजह से हम सभी हर साल 15 अगस्त के दिन स्वतंत्रता दिवस मनाते है क्योंकि भारत की आजादी के तुरंत बाद, नई दिल्ली में स्वतंत्रता दिवस को पंडित जवाहरलाल नेहरू ने भाषण दिया.

जब पूरी दुनिया के लोग अपने बिस्तरों पर आराम से सो रहे थे, ब्रिटिश शासन से जीवन और आजादी पाने के लिये भारत में हमारे स्वतंत्रता सेनानी लोग जगे हुए थे। अब, स्वतंत्रता के बाद, दुनिया में भारत सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है.

हमारा देश विविधता में एकता के लिये प्रसिद्ध है। इसने कई घटनाओं का सामना किया इसके धर्मनिरपेक्षता को परखने के लिये जबकि भरतीय लोग हमेशा अपनी एकता से जवाब देने के लिये तैयार रहते है.

आज हमें अपने पूर्वजों के कठोर संघर्षों की वजह से हम अपनी आजादी का उपभोग करने लायक बने है और अपनी इच्छा से खुली हवा में साँस ले सकते है.

हमें उन्हें दिल से धन्यवाद देना चाहिए.

ब्रिटिशों से आजादी पाना बेहद असंभव कार्य था लेकिन हमारे दादा-परदादा ने लगातार प्रयास से इसको प्राप्त कर लिया। हम उनके त्याग को कभी भूल नहीं सकते और हमेशा इतिहास के द्वारा उन्हें याद करते रहेंगे.

हमें उनकी याद में ही नहीं रहना है हमें उनके द्वारा दिलाई गयी आजादी की कद्र करनी है| वो हमेशा हमारी यादों में रहेंगे और पूरे जीवन के लिये प्रेरणा बने रहेंगे.

आज हम सभी भारतीयों के लिये बहुत महत्वपूर्ण दिन है जिसको हम महान भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदानों को याद करने के लिये मनाते है, जिन्होंने देश की आजादी और समृद्धि के लिये अपना जीवन दे दिया.

भारत आजाद हो पाया क्योंकि सहयोग, बलिदान और सभी भारतीयों की सहभागिता थी। हमें महत्व और सलामी देनी चाहिये उन सभी भारतीय नागिरकों को क्योंकि वो ही असली राष्ट्रीय अभिनेता थे.

हमें धर्मनिरपेक्षता में भरोसा रखना चाहिये और एकता को बनाए रखना है एक दुसरे से लडाई झगड़े न करे अपने सभी छोटे और बड़े लोगों को प्यार, सम्मना दें हमें देश का जिम्मेदार नागरिक होने के नाते, किसी भी आपात स्थिति के लिये हमेशा तैयार रहना चाहिये। देश के लिए जान देने को कभी भी तैयार रहना चाहिए.

आज हमें शपथ लेनी चाहिये कि हम कल के भारत के एक जिम्मेदार और शिक्षित नागरिक बनेंगे। हमें गंभीरता से अपने कर्तव्यों को निभाना चाहिये और लक्ष्य प्राप्ति के लिये कड़ी मेहनत करनी चाहिये तथा सफलतापूर्वक इस लोकतांत्रित राष्ट्र को नेतृत्व प्रदान करना चाहिये.

भारत की आजादी सर्वोपरि है भारत का स्वतंत्रता दिवस पूरे साल का सबसे कीमती दिन है इस दिन अपने सभी लोगों से बिना किसी भेद भाव के मिलना चाहिए.

सभी भारतीय नागरिक 15 अगस्त पर अपनी अपनी तरीके से आजादी मनाते हैं इस दिन पतंगे उड़ाते हैं रिश्ते दारों के घर जाते है घूमना फिरना भी सबको पसंद है लेकिन इन सबके साथ हमें अपने संविधान की भी रक्षा करनी है और एक हीरो की तरह सब को संविधान की रक्षा करवानी भी है.

आज भी भारत माता की जय के लिए न जाने कितने सैनिक सरहद पर हथियार लेकर खड़े हैं हम उनकी तरह तो नहीं बन सकते है लेकिन क्या हम अपने भारत के लिए कुछ नहीं कर सकते है ?

जी बिलकुल बहुत कुछ कर सकते है आज भी हम अपनी भारत माता के लिए कुछ भी कर सकते है.

15 August Speech in Hindi for Child

आज हम सभी यहाँ देश का 75वाँ स्वतंत्रता दिवस मनाने के लिए उपस्तिथ हुए है।

मैं अपने कक्षा अध्यापक जी का बहुत आभारी हूँ जिन्होंने मुझे देश की आजादी पर अपने विचार रखने का मौका दिया। हमारे जीवन में आज का दिन बहुत महत्व रखता है क्यूंकि इसी दिन हमारे देश को आजादी मिली थी। ये वो दिन है जब हमे विदेशी हुकुमत की गुलामी से आजादी मिली और खुली हवा में साँस लेना का मौका मिला।

15 अगस्त के दिन हम उन सभी लोगो को याद करते है जिन्होंने हँसते अपने प्राणों की आहुति दे दी पर देश को आजाद करवा दिया। अगर वो बलिदान न करते तो शायद आज भी हम गुलाम होते। 15 अगस्त 1947 के दिन हमारे देश को आजादी मिली थी।

इस दिन 45 करोड़ भारतवासियों को विदेशी हुकुमत से आजादी मिली। 14 अगस्त 1947 की रात्रि को पंडित जवाहरलाल नेहरु ने अपने भाषण “ट्रिस्ट विद डेस्टिनी (नियति से साक्षात्कार)” में हमारी आजादी की औपचारिक घोषणा की थी।

अगली सुबह 15 अगस्त 1947 को उन्होंने लाल किले पर तिरंगा फहराया था और देश ने पहली बार आजादी की खुली हवा में साँस ली। वो दिन भारत के इतिहास का एक स्वर्णिम दिन था। 200 सालो की दास्ता के बाद हमारा देश आजाद हो गया था।

15 August Speech in Hindi Shayari

तो सबसे पहले स्टेज पर जाते ही आपको बोलना है –

मंच पर विराजमान आदरणीय अतिथि महोदय, गुरुजनों, माताओं-बहिनों और मेरे प्यारे सहपाठियों. सबसे पहले तो मैं आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं देता हूं. कि आज मुझे इस राष्ट्रीय पर्व पर आप सभी के बीच में चार शब्द बोलने का मौका मिला है. इसीलिए मैं अपने आपको गौरवान्वित महसूस कर रहा हूं.

इसके बाद आपको भाषण की शुरुआत एक देशभक्ति की अच्छी शायरी से करनी है-

न पूछो ज़माने को हमारी क्या पहचान है,

हम तो एक हिन्दुस्तानी है यही हमारी पहचान है.

तो आज हम सब यहां 75वां स्वतंत्रता दिवस मनाने के लिए इकठ्ठा हुए हैं. हमारा भारत देश सदियों की गुलामी झेलने के बाद सन् 1947 में आज ही के दिन 15 अगस्त को आजाद हुआ था. इससे पहले हम अंग्रेजों के वर्षों तक गुलाम थे और उनके अत्याचारों को सहन करते रहे.

साथियों हमारे देश को आजाद कराने में उन वीर सपूतों को न जाने कितने दुःख सहने पड़े होंगे. जिनकी बदौलत आज हम इस देश में सुखी जीवन बिता रहे है.

मैं सबसे पहले नमन करता हूं भारत देश के उन वीरों को जिन्होंने इस देश को आजाद कराने के लिए हँसते-हँसते सूली पर चढ़ कर अपने प्राणों की आहुतियां दे दी.

फिर मैं नमन करता हूं देश के उन जवानों को जो अपने घर-परिवार, बीबी-बच्चों को छोड़कर रात-दिन चौबीसों घंटे देशवासियों की रक्षा के लिए सीना तानकर बोर्डर पर जो खड़े हैं.

अब मैं दो लाइन उन वैज्ञानिकों के लिए बोलना चाहूंगा, जिन्होंने हमारे देश को तकनिकी क्षेत्र में आगे बढाकर एक बहुत बड़ा योगदान दिया है-

मुझे गर्व है मेरे देश के उन वैज्ञानिकों पर जिन्होंने आज समूचे भारत देश को संचार-परिवहन व्यवस्था हो या फिर स्वास्थ्य-शिक्षा जैसे तमाम क्षेत्रों में तकनिकी युग की शुरुआत जो कर दी है. आज हम उन वैज्ञानिकों की बदौलत से ही एक स्थान पर बैठे देश-दुनियां से जुड़ पाते है.

हमारे देश में तकनिकी परिवहन के कारण आज हम घंटों का सफर चंद मिनटों में कर लेते है. यही नहीं हम घर बैठे इंटरनेट और मोबाईल फोन के माध्यम से पूरी दुनिया को देख और बात कर सकते है.

साथियों इस देश को ब्रिटिश शासनकाल से मुक्ति दिलाने में सरदार भगत सिंह, नेताजी सुभाष चंद्र बोस, चंद्रशेखर आजाद जैसे अनेक वीर सपूतों ने अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है. जिन्होंने अपने घर-परिवार की चिंता किए बगैर इस देश को बचाने के लिए अपना पूरा जीवन ही न्यौछावर कर दिया.

देश को बचाने के लिए सरदार वल्लभ भाई पटेल, महात्मा गांधी, जवाहर लाल नेहरू जैसे अनेक नताओं ने सत्य और अहिंसा के रास्ते पर चलकर आजादी की जंग जीती है. उन्होंने अपनी हार नहीं मानते हुए कई बार सत्याग्रह आंदोलन किए और अंग्रेजों की लाठियां भी खाई, तो कई दफे जेल भी गए. हमारे ऐसे वीर नेताओं के आगे आख़िरकार वह 15 अगस्त का दिन आ ही गया जब अंग्रेज थक-हार गए और भारत छोड़कर जाने को मजबूर हुए.

देश के प्रति दिल में जूनून और आंखों में देशभक्ति की चिंगार है,

जब तक दुश्मन की सांसे न निकल जाए, जीना हमारे लिए दुश्वार है.

15 अगस्त 1947 का दिन हमारे लिए ऐतिहासिक दिन है और यह दिन ‘स्वर्णिम’ अक्षरों में लिखा गया. इसीलिए हम समस्त भारतवासी प्रतिवर्ष 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाते है. इस दिन देश की राजधानी दिल्ली में लाल किले पर माननीय प्रधानमंत्री राष्ट्रपति की मौजूदगी में राष्ट्रध्वज फहराते है और सेना के जवानों को सलामी देते हैं.

वहीँ इस वक्त राष्ट्रगीत गाया जाता है और उन सभी महापुरुषों और शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की जाती हैं जिन्होंने देश को स्वतंत्र कराने के लिए अपनी कुर्बानी दे दी थी. इस ख़ुशी के मौके पर माननीय प्रधानमंत्री राष्ट्र के नाम संदेश भी देते हैं.

आज के दिन समूचे भारत की स्कूल, कॉलेज, शिक्षण संस्थाओं एवं राजकीय दफ्तरों में तिरंगा फहरा कर हम सभी आजादी का जश्न मानते है. इस दौरान स्कूली छात्र राष्ट्रभक्ति से ओतप्रोत सांस्कृतिक कार्यक्रमों की छंटा भी बिखेरते है.

तो साथियों देश के नागरिक होने के नाते हम सभी का यह कर्तव्य बनता है कि इस मौके पर घूस, जमाखोरी, कालाबाजारी को देश में समाप्त करने का संकल्प लें और एकता की भावना से रहें और आंतरिक कलह से बचें…

“जय हिन्द-जय भारत”

अंतिम शब्द

दोस्तों मैं उम्मीद करता हूँ इस वेबसाइट में शेयर किये गए Independence Day Speech In Hindi आपको पसंद आये होंगे। कमेंट करके अपने विचार हमारे साथ ज़रूर शेयर करें और फेसबुक, व्हाट्सप्प, इंस्टाग्राम आदि सोशल मीडिया साइट्स पर इस पोस्ट को शेयर करना ना भूलें धन्यवाद और जय हिन्द।

Leave a Comment